मुस्लिम वर्ल्ड

ईतिहास का सबसे खूनी अज़ान, 22 मुस्लिम युवकों की जान दे कर पूरी की अज़ान

Sharing is caring!

आज हम आपको एक ऐसे अज़ान के बारे में बताने जा रहे है जिसको पूरा करने में 22 मुस्लिम नौजवानों की जान की आहूति देनी पड़ी,

यूँ तो हम सब जानते है की अज़ान 2-3 मिनट की होती हैं पर ये अज़ान तकरीबन 30 मिनट तक हुई थी जिसको मुकम्मल करने में 22 नौजवानों को क़ुर्बानी देनी पड़ी.

ये वाक़या है सन 1931 का जग़ह श्रीनगर का सेंट्रल जेल जहाँ लोग डोंगरा राज के विरोध में सेंट्रल जेल के सामने इकठ्ठा हुवे थे, विरोध पर्दशन चल ही रहा था की नमाज़ का वक़्त हो गया, उस भीड़ से एक युवक उठा और नमाज़ के लिए अज़ान देने लगा तभी वहां खड़ी डोंगरा के सिपाहियों ने उस युवक को गोली मार दी जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई, उस युवक की मौत के बाद एक दूसरा मुस्लिम युवक उठा और अधूरे अज़ान को पूरा करने लगा डोंगरा सिपाहियों ने उसकी भी हत्या कर दी, जिसके बाद एक के बाद एक युवक अधूरे अज़ान को पूरा करने के लिए खड़े होते गए और डोंगरा सिपाही उन्हें मौत की नीन्द सुलाते गये।

आपको बात दे की अज़ान जब पूरी हुई उस वक़्त तक डोंगरा सिपाहियों ने 21 मुस्लिम युवकों को मौत के नीन्द सुला चुकी थी, जब 22वा युवक खड़ा हुआ अज़ान देने के लिए जैसे ही उसकी अज़ान पूरी हुई डोंगरा सिपाहियों ने उसे भी गोलियों से छलनी कर दिया।

22 युवक की जान की क़ुर्बानी देने के बाद उस वक़्त अज़ान मुकम्मल हुईं थीं

ईतिहास का सबसे खूनी अज़ान है और सबसे ज़्यादा वक़्त में पूरी होने वाली अज़ान थी।

 

Loading...

About the author

rekha

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Connect!